आपके राशि के अनुसार कैसा रहेगा आपके लिए वर्ष 2016 आपके राशि के अनुसार कैसा रहेगा आपके लिए वर्ष 2016
पूरी दुनिया 2016 के स्वागत के लिए तैयार है, आने वाले साल को लेकर नई उम्मीदें और आकांक्षाएं हैं लेकिन कहीं मन में दुविधा... आपके राशि के अनुसार कैसा रहेगा आपके लिए वर्ष 2016

पूरी दुनिया 2016 के स्वागत के लिए तैयार है, आने वाले साल को लेकर नई उम्मीदें और आकांक्षाएं हैं लेकिन कहीं मन में दुविधा भी कि क्या आने वाला साल हमारे सारे सपने पूरे करेगा । आपके ऐसे ही कई सवालों के जवाब देने के लिए हम लेकर आए हैं राशिफल । 12 राशियों के लिए आने वाला साल कैसा है किसका सिक्का चमकेगा और कैसे आने वाली मुसीबतों से बचे ये सब पता चलेगा आपको आपके राशिफल से ।

मेष (Aries)- मेष राशि वाले जातकों के लिए साल 2016 उत्तम स्वास्थ्य और भाग्योदय प्रदान करने वाला है। आर्थिक विषयों को सुनियोजित करना आवश्यक रहेगा। बढ़िया आमदनी होने पर भी जब-तब मंदी का अनुभव करेंगे। राहू 30 जनवरी से सिंह राशि में गुरु के साथ युति में आएगा जिससे भाग्य का साथ थोड़ा कम मिलेगा और निर्णय लेने में सावधानी बरतनी होगी। विद्यार्थियों के लिए यह साल सिद्धि प्रदाता साबित होगा। विदेश से संबंधित कामकाज रुके हों तो वह पूरे होते दिखाई दे रहे हैं। गुरु, 11 अगस्त 2016 को कन्या राशि में प्रवेश कर रहा है। इस समय के बाद कोर्ट कचहरी, विदेश से संबंधित तथा उधार-वसूली के काम में सफलता मिलती दिखाई दे रही है। नौकरीपेशा वर्ग के लिए यह वर्ष सफलतादायक साबित होगा। पदोन्नति का अवसर आने की पूरी संभावना बन रही है।

वृषभ (Taurus)- वृषभ राशि के जातकों के लिए साल 2016 जन्म राशि से सातवें भाव में शनि और चतुर्थ भाव में गुरु तथा पंचम भाव में राहु महाराज का गोचर भ्रमण से शुरू हो रहा है। मंगल के घर का शनि सातवें घर में बैठकर आपके दांपत्य जीवन और भागीदारी के संबंधों में सावधानी बरतने की सूचना दे रहा है। भाग्य में अवरोध आता दिख रहा है। धर्म की तरफ आपका झुकाव अधिक रहेगा। पिता के साथ सबंधों में कड़वाहट आ सकती है। विदेशगमन की योजना बना रहे हैं तो अवरोध आ सकते हैं। विचारों में नकारात्मकता रहेगी। आपकी लोकप्रियता और सार्वजनिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। 2016 के मध्य में गुरु महाराज का पांचवें भाव में गोचर भ्रमण अविवाहित लोगों के लिए आशा की किरण लाएगा। भागीदारी के लिए भी अनुकूल समय है। मित्र और भाई से लाभ होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

मिथुन(Gemini)- नया साल 2016, मिथुन राशि के जातकों के लिए शुभ संदेश लाने वाला है। आपका राशि स्वामी बुध, धनु राशि से गोचर भ्रमण शुरू कर राशि चक्र पूरा कर फिर से धनु राशि में आ गया है। आप बुध प्रधान व्यक्ति हैं, इसलिए बुध के प्रभाव के चलते जीवन के विविध पहलुओं में सफलता हासिल करेंगे। गुरु, तीसरे स्थान में आपकी राशि के लिए शुभ फलदायी रहेंगे। महत्वपूर्ण यात्रा और भेंट-मुलाकात, सबंधों में निकटता और सौहार्द बढ़ेगा तथा उसकी उपयोगिता आप अच्छी तरह समझ सकेंगे। भाई-बहन या अन्य सगे-संबंधियों से सहयोग मिलेगा। जीवन के कई महत्वपूर्ण काम इस समय शुरू कर सकेंगे। बृहस्पति के शुभ प्रभाव का लाभ उठाकर आगे बढ़ेंगे। वर्ष के उत्तरार्ध में गुरु का चतुर्थ भाव में भ्रमण सुखद प्रसंगों का संकेत दे रहा है। जमीन-मकान और वाहन संबंधी मामलों में समाधान मिलेगा।

कर्क (Cancer) – वर्ष के शुरुआत में ही आपकी राशि से दूसरे भाव में गुरु का गोचर आपको वित्तीय रूप से और परिवार के संबंध में सकारात्मक संकेत दे रहा है। गुरु की पांचवीं दृष्टि रोग, शत्रु, ननिहाल पक्ष और दैनिक आमदनी तथा नौकरी के स्थान पर पड़ने से, इन सभी विषयों में आपको मन की शांति और स्थिरता दिखाई देगी। सातवीं दृष्टि आपकी राशि से आठवें स्थान पर होने से अचानक धन लाभ, वसीयत के कार्यों में समाधान का संकेत दे रही है। लंबे समय से किसी बीमारी से ग्रसित थे तो उससे मुक्ति मिलेगी। आपके कर्म स्थान पर भी गुरु की दसवीं दृष्टि कारोबार में उन्नति की संभावनाओं की सूचना दे रही है। आपकी लोकप्रियता में वृद्धि होगी। आपका हर काम निर्विघ्न पूरा होगा। राहु की गुरु के साथ युति होने के बाद आर्थिक विषय में कोई गलत निर्णय न हो जाए, इसका ध्यान रखें।

सिंह (Leo) – साल 2016 के अगस्त महीने तक गुरु का गोचर चलने से आपकी राशि के लिए समय बेहतर रहेगा। आप आत्मविश्वास से भरे रहेंगे। शारीरिक तंदुरस्ती भी बढ़िया रहेगी। गुरु की पांचवी दृष्टि प्रेम और संतान स्थान पर होने से आपके लिए अनुकूल संकेत है। कालपुरुष की कुंडली में भी पांचवें स्थान का स्वामी सूर्यदेव होते हैं और ज्ञान के देव गुरु का गोचर इस वर्ष को आपकी जिंदगी का यादगार वर्ष बनाएगा। संतान संबंधी मामलों का समाधान होगा। पढ़ाई करने वाले जातकों को सफलता मिलने की पूरी संभावना है। प्रेम-प्रसंग में आनंद का अहसास होगा। शेयर मार्केट में सोच-विचार कर उठाया गया जोखिम फायदा कराएगा। वैवाहिक जीवन भी सुखद रहेगा। जीवनसाथी का साथ और पूरा सहयोग मिलेगा। विवाह के इच्छुक जातकों की योग्य जीवनसाथी की खोज पूरी हो सकती है।

कन्या (Virgo) – आपकी राशि से गोचर के राहु का भ्रमण चल रहा है। लेकिन 2016 की शुरुआत में ही वह राशि बदलकर सिंह राशि में बारहवें राहु का भ्रमण चालू करेगा। बारहवें राहु के गोचर भ्रमण के दौरान आपको विशेष ध्यान रखने की सलाह है। बड़ा नुकसान या अनहोनी न हो, इसका ध्यान रखें। विदेशगमन की प्लानिंग कर रहे हैं तो उत्तम योग है। कोर्ट कचहरी के मामलों में सावधानी रखें। कानूनी दावा या किसी के साथ झगड़े-विवाद में न पड़ें अन्यथा मानसिक परेशानी हो सकती है। बारहवां स्थान चौथे स्थान के त्रिकोण स्थान में होने से मन पर अधिक बोझ रहेगा और मानसिक उथल पुथल होगी। घर से दूर रहने के अवसर आएंगे। बारहवें गुरु महाराज की उपस्थिति आपको वित्तीय विषयों में अनुकूल संकेत दे रही है। अगस्त 2016 में गुरु के राशि परिवर्तन कर आपकी ही राशि में होने से आपको अधिक राहत मिलेगी।

तुला (Libra) – 2016 की शुरुआत में ही आपका राशि स्वामी शुक्र, आपकी राशि से दूसरे धन स्थान में और परिवार स्थान में 19 जनवरी तक रहेगा। यह शुक्र आपके लिए राजयोग कारक शनि के साथ युति में है। आपका पूरे वर्ष कुटुंब भावना और वित्तीय परिस्थिति में अनुकूल रहेगा। राशि स्वामी पूरे वर्ष भ्रमण कर वर्ष के अंत में कुंभ राशि में रहेगा। शुक्र के इस भ्रमण के दौरान आप पारिवारिक और वित्तीय कार्यक्रमों में व्यस्त रहेंगे। समय का राजा सूर्य आपकी राशि से तीसरे साहस और पराक्रम स्थान तथा भातृ स्थान में भ्रमण कर रहा होगा। यह सूर्य सातवीं दृष्टि से भाग्यस्थान को देख रहा है। साहस का कारक और धन स्थान का स्वामी मंगल आपकी राशि में गोचर भ्रमण शुरू कर वर्ष के अंत में कुंभ राशि में आएगा। इस समय आप किसी के साथ प्रेम की गांठ में बंधेंगे या विवाह भी कर सकते हैं। दुस्साहस न हो इसका ध्यान रखें।

वृश्चिक (Scorpio) –वर्ष के आरंभ में आपका राशि स्वामी मंगल, आपकी राशि से बारहवीं शुक्र की तुला राशि में भ्रमण कर रहा है जिससे पूरे साल आप रंगीन मिजाज में रहेंगे। विदेश जाने की प्लानिंग के साथ साल की शुरुआत होगी। दान-धर्म और अध्यात्म में रुचि अधिक रहेगी। अस्पताल के चक्कर न लगाने पड़ें, इसका ध्यान रखें। शुक्र-मंगल के परिवर्तन से वर्ष का आंरभ होने से आपके पसंदीदा व्यक्ति से मिलने की मनोकामना पूरी होती दिखेगी। शनि महाराज मेहनत करवाएंगे। आपकी राशि में शनि का भ्रमण आपको नकारात्मक विचार की तरफ ले जाने का प्रयास करेगा। ऐसे समय मानसिक स्थिरता के लिए योग और प्राणायाम का सहारा लें। कर्मस्थान में गुरु की उपस्थिति आपके कार्य को विशालता प्रदान करेगी। बड़े-बड़े प्रोजेक्ट पर काम करना होगा। अपना मकान लेने या मौजूदा घर में सजावट, फर्नीचर, रेनोवेशन का विचार चल रहा हो तो खर्च आपकी अपेक्षा से अधिक न हो जाए, इसकी सावधानी रखें।

धनु (Sagittarius) – साल 2016 की शुरुआत से ही आपका राशि स्वामी गुरु, भाग्यस्थान में गोचर करता रहेगा जिससे आपके भाग्य का दरवाजा खुल सकता है। साथ ही वर्ष के अंतिम चरण में गुरु, आपके कर्मस्थान में कामकाज में विस्तार का संकेत दे रहा है। पैसा, साहस, पराक्रम और परिवार के पोर्टफोलियो वाली आपकी राशि के लिए शनि महाराज वर्ष के दौरान बारहवीं वृश्चिक राशि में रहेंगे, जिससे धन का व्यय होने की संभावना विशेष रहेगी। संभव हो तो वहां तक मर्यादित आमदनी के सामने बढ़ते खर्च को नियंत्रित कर बचत और सुरक्षित निवेश पर ध्यान दें। बेकार साहस करने से नुकसान हो सकता है। बारहवां शनि होने से कर्ज, उधारी या लोन से मुक्ति में लोहे के चने चबाने जैसी स्थिति हो सकती है। राहू की भाग्य स्थान में उपस्थिति के कारण विदेशगमन से आर्थिक लाभ का संकेत मिल रहा है। कुल मिलाकर यह साल आपके लिए सकारात्मक रहेगा।

मकर (Capricorn) – आपका राशि स्वामी शनि, नए साल में आपके लाभ स्थान में ही भ्रमण करेगा, जिससे आपको चारों ओर से मिल रहे लाभ में व्यवधान आने की संभावना है। बड़े भाई-बहन या मित्रों का सहयोग मिलेगा। आपके अष्टम स्थान का स्वामी सूर्य व्यय स्थान में धनु राशि में होने से बीमारी से ग्रसित होने की संभावना है। विशेषकर मौसमी बीमारियां आपके कार्यक्रम में व्यवधान उत्पन्न करेंगी जिससे आपमें व्याकुलता अधिक रहेगी। चतुर्थ और लाभ स्थान का स्वामी मंगल दसवें घर में रहकर आपके चतुर्थ स्थान और पंचम स्थान पर दृष्टि डाल रहा है। इस समय आपको जमीन, मकान या किसी भी अचल संपत्ति से लाभ होगा। शेयर-सट्टे के रास्ते लाभ पाने में सावधानी बरतें। मित्र आपसे दूर होते दिखेंगे। आठवें भाव में गुरु, अचानक वसीयत पाने का योग बनाएगा। शनि की दृष्टि मकर राशि पर होने से विचारों में नकारात्मक आएगी।

कुंभ (Aquarius) – कुंभ का राशि स्वामी शनि, 2016 की शुरुआत से अंत तक आपके कर्मस्थान में वृश्चिक राशि में भ्रमण कर रहा है। वर्ष की शुरुआत में राजयोग कारक ग्रह शुक्र के साथ शनि की युति होने से आपको काम-धंधे और लोकप्रियता में सफलता मिलेगी। विदेश के व्यापार-धंधे के लिए भी वर्ष अनुकूल रहेगा। धंधे में उधारी न रखें अन्यथा पैसा फंसने की संभावना है। मकान बदलने या रेनोवेशन का विचार कर रहे हैं तो साल 2016 अनुकूल है। अपेक्षा से अधिक खर्च न हो, इसका ध्यान रखें। जीवनसाथी की खोज में हैं तो वर्ष के अंत तक इंतजार करें, लेकिन धीरज का फल मीठा होगा। शनि, विलंब से लेकिन अच्छा फल देगा। गुरु का सातवें स्थान में गोचर आपको सार्वजनिक जीवन में ‘फील-गुड’ करवाएगा। विवाहित जातकों को उत्तम श्रेणी के दांपत्य जीवन का आनंद उठा सकेंगे।

मीन (Pisces) –वर्ष 2016 की शुरुआत में मीन राशि के जातकों का राशि स्वामी गुरु, सिंह राशि में आपकी राशि से छठे भाव यानी नौकरी, दैनिक आमदनी और रोग-शत्रु के स्थान में भ्रमण कर रहा है। यह गोचर आपको रोजगार संबंधी प्रगतिकारक फल दिलाएगा। आप लोकप्रियता की नर्इ शिखर पर चढ़ेंगे। वाद-विवाद और संघर्ष से मुक्ति मिलेगी। परिवार के साथ सबंधों में सुधार होगा। पैसे की तंगी से मुक्ति मिलेगी। छोटे-मोटे विघ्न और धीरज की परीक्षा लेने वाली परिस्थिति देखने को मिले तो उसे राहू का नकारात्मक प्रभाव कहा जा सकता है। विरोधियों और शत्रुओं की संख्या बढ़ेगी। लेकिन उनकी कोई भी चाल सफल नहीं होगी। भाग्य स्थान में शनि की उपस्थिति के कई प्रतिकूल प्रभाव दिखेंगे। शनि के कारण पिता और बड़ों के साथ किसी न किसी विषय में मनदुख होगा। यात्रा, विदेशगमन में विघ्न आ सकता है।